• तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते

    तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,
    ​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।

    वो अच्छा है तो अच्छा है,
    लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी
    Rate this: