• तू किसी और के लिए होगा

    तू किसी और के लिए होगा समंदर-ऐ-इश्क़।
    हम तो रोज़ तेरे साहिल से
    प्यासे गुज़र जाते हैं।।

    होता होगा तुम्हारी दुनियाँ
    मैनें तेरा नाम लेके ही
    Rate this: