• Sad Shayari Image

    अब मोहब्बत नही रही इस

    अब मोहब्बत नही रही इस जमाने में, क्योंकि लोग
    अब मोहब्बत नही मज़ाक किया करते है इस जमाने में।

    अनजान थे हम अनजान

    अनजान थे हम अनजान ही रहने दो,
    किसी की यादों में हमें पल पल यूँ ही मरने दो,
    क्यों करते हो बदनाम लेकर नाम हमारा,
    अब तो इस नाम को गुमनाम रहने दो।

    कौन कहता है नफ़रतों में

    कौन कहता है नफ़रतों में दर्द है मोहसिन,
    कुछ मोहब्बतें भी बड़ी दर्द नाक होती है।

    कोई रात से कह दो कि थम जाये

    कोई रात से कह दो कि थम जाये
    मैं आज ख्वाब में ज़िन्दगी जीने वाला हूँ


    हर कोई तेरे आशियाने

    हर कोई तेरे आशियाने
    का पता पूछता है
    न जाने किस किस से
    वफा के वादे किये हैं तूने

    “कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे

    “कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे
    हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे
    वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए
    हम तो बादल है प्यार के किसी और पर बरस जायेंगे.”

    हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है

    हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है,
    शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है
    कितने सिद्दत से उन्हें याद करते है हम,
    और एक वो है, जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है.

    वो करते हैं शिकायत हमसे कि हम

    वो करते हैं शिकायत हमसे कि हम
    हर किसी को देखकर मुस्कुराते हैं,
    शायद उन्हें नहीं पता कि हमें हर
    मुखड़े में सिर्फ वो ही नज़र आते हैं।

    तन्हा मौसम है और उदास ‪‎रात‬ है

    तन्हा मौसम है और उदास ‪‎रात‬ है
    वो मिल के बिछड़ गये ये ‪‎कैसी मुलाक़ात‬ है,
    दिल धड़क तो रहा है मगर ‎आवाज़‬ नही है,
    वो धड़कन भी साथ ले गये ‎कितनी अजीब‬ बात है!

    सबने कहा इश्क़ दर्द है

    सबने कहा इश्क़ दर्द है,
    हमने कहा ये दर्द कबुल है,
    सबने कहा इस दर्द के साथ जी नही पाओगे,
    हमने कहा इस दर्द के साथ मरना कबुल है |