• Romantic Shayari in hindi

    ज़िन्दगी तुम मेरी बन जाओ

    ज़िन्दगी तुम मेरी बन जाओ रब से और क्या माँगू,
    जीने की वजह बन जाओ बस ये ही दुआ माँगू।

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है,
    याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।

    “पहली मोहब्बत के लिए

    “पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है.
    वो अपना हो न हो दिल पर
    राज हमेशा उसी का रहता है।”

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है,
    याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।

    तलाश मेरी थी और

    तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो,
    दिल मेरा था और धड़क रहा था वो।
    प्यार का ताल्लुक भी अजीब होता है,
    आंसू मेरे थे और सिसक रहा था वो।

    तुम मिल गए तो मुझ से

    तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा,
    कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है।

    ना जाने इतनी मुहब्बत

    “ना जाने इतनी मुहब्बत
    कहां से आई है उसके लिये,
    कि मेरा दिल भी उसकी
    खातिर मुझसे रूठ जाता है”

    पहली मोहब्बत के लिए दिल

    पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है.
    वो अपना हो न हो…दिल पर
    राज हमेशा उसी का रहता है।

    दिल की धड़कन और मेरी सदा है तू,

    दिल की धड़कन और मेरी सदा है तू,
    मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है तू,
    चाहा है तुझे चाहत से भी बढ़ कर,
    मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है तू।

    ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई

    ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है उसके लिये
    कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मुझसे रूठ जाता है