• Dard Shayari

    किस मुँह से इलज़ाम लगाए

    किस मुँह से इलज़ाम लगाए
    बारिश कि बौछारों पर
    हमने खुद तस्वीर बनायीं थी
    मिटटी कि दीवारों पर

    अब जानेमन तू तो नहीं

    अब जानेमन तू तो नहीं,
    शिकवा-ए-गम किस से कहें
    या चुप हें या रो पड़ें,
    किस्सा-ए-गम किससे कहें।

    न जाने किस तरह का इश्क

    Sad Dard Shayari Picture

    न जाने किस तरह का इश्क कर रहे हैं हम,
    जिसके हो नहीं सकते उसी के हो रहे हैं हम।

    दर्द है दिल में पर एहसास नहीं

    Sad Shayari

    दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
    रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
    बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
    और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।

    मुलाकातों के लम्हें

    मैं लोगों से मुलाकातों के लम्हें याद रखता हूँ,
    बातें भूल भी जाऊं पर लहजे याद रखता हूँ।

    मेरे प्यार को वो समझ नहीं पाए

    Sad Shayari

    मेरे प्यार को वो समझ नहीं पाए,
    रोते थे जब तनहा तब पास कोई नहीं आया,
    मिटा दिया खुदको किसी के प्यार में,
    लोग कहते है मुझे प्यार करना नहीं आया!

    मेरी किस्मत में है या नहीं

    मुझे भी अब नींद की तलब नहीं रही,
    अब रातों को जागना अच्छा लगता है,
    मुझे नहीं मालूम वो मेरी किस्मत में है या नहीं,
    मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है..

    अंदर से बिल्कुल खाली हूँ

    dard shayari

    अंदर से बिल्कुल खाली हूँ
    ऊपर बस जिस्म पहन रखा है.

    जिंदगी इतनी दुखी नहीं

    sad shayari

    जिंदगी इतनी दुखी नहीं
    के मरने को जी💔 चाहे
    बस कुछ लोग इतने दुख देते है कि
    जीने को दिल😢 नही करता….

    नादानी की हद है

    नादानी की हद है जरा देखो तो उन्हें,
    मुझे खो कर वो मेरे जैसा ढूढ़ रहे हैं।