• Dard Bhari Shayari

    नींद चुराने वाले पूछते हैं

    नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यों नही,
    इतनी ही फिक्र है तो फिर हमारे होते क्यों नही

    “कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे

    “कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे
    हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे
    वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए
    हम तो बादल है प्यार के किसी और पर बरस जायेंगे.”

    कभी जो कहते थे तुम्हे कभी ना रोने देंगे

    कभी जो कहते थे तुम्हे कभी ना रोने देंगे,
    आंसू भरी आंख लेकर तुझे कभी सोने देंगे,
    आखिर वहीं हमारी आंख का आंसू बन गए,
    जो कहते थे तुमको कभी खोने ना देंगे।

    इबादत रब दी होबे ता चेहरा यार दा होबे

    इबादत रब दी होबे ता चेहरा यार दा होबे
    सजदे खुदा दे ते रस्म प्यार दी होबे
    आशिक़ाँ दे मज़हब दी की दस्सीये,
    ज़िकर रब्ब दा ते गल दिलदार दी होबे

    वो करते हैं शिकायत हमसे कि हम

    वो करते हैं शिकायत हमसे कि हम
    हर किसी को देखकर मुस्कुराते हैं,
    शायद उन्हें नहीं पता कि हमें हर
    मुखड़े में सिर्फ वो ही नज़र आते हैं।

    मुहब्बत साथ हो जरूरी नहीं

    मुहब्बत साथ हो जरूरी नहीं..
    पर मुहब्बत जिन्दगी भर हो ये बहुत जरूरी है

    हम तो बने ही थे तबाह होने के लिए,

    हम तो बने ही थे तबाह होने के लिए,
    तेरा छोड़ जाना तो महज़ बहाना बन गया।

    मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,

    मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,
    बोला साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है।

    उसने जाते-जाते बड़े गुरुर से कहा,

    उसने जाते-जाते बड़े गुरुर से कहा,
    “बहुत मिलेंगे तुम जैसे”
    तो मैंने भी मुस्कुराते हुए पूछ ही लिया
    मुझ जैसा ही क्यों चाहिए…!!

    यादें रह जाती है याद करने के लिए

    यादें रह जाती है याद करनेके लिए ,
    और वक़्त सब लेकर गुजर जाता है ,