• सजदा से करबला को बंदगी मिल गई

    सजदा से करबला को बंदगी मिल गई
    सबर से उम्‍मत को ज़‍िंदगी मिल गई
    एक चमन फातिमा का गुज़रा
    मगर सारे इस्‍लाम को ज़‍िंदगी मिल गई.

    जिंदगी की हर तमन्ना
    चंदन की ख़ुशबू को रेशम का हार
    Rate this: