• Hindi shayari & Whatsapp status collection

    आज भी मेरे बदन से आती है

    आज भी मेरे बदन से आती है तेरे ही सांसों की महक,
    तेरे बाद किसी को सीने से लगाया नहीं हमने!!

    अक्सर वही लोग उठाते हैं

    अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उंगलियाँ,
    जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती।

    वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं,

    वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं,
    तो इसमें हैरत की बात नहीं,
    जिन्हें हम चाहते हैं,
    वो आम हो ही नहीं सकते।

    लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी

    लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी को खुदा नहीं मिलता,
    शायद उन लोगों को दोस्त कोई तुम-सा नहीं मिलता।

    “पहली मोहब्बत के लिए

    “पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है.
    वो अपना हो न हो दिल पर
    राज हमेशा उसी का रहता है।”

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है,
    याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।

    जिम्मेदारियां भी एक

    जिम्मेदारियां भी एक इम्तेहान होती है,
    जो निभाता है न उसी को परेशान करती हैं।

    लक्ष्य सही होना चाहिए वरना

    लक्ष्य सही होना चाहिए वरना
    काम तो दीमक भी करती है
    पर होता विनाश ही है उससे

    होता होगा तुम्हारी दुनियाँ

    होता होगा तुम्हारी दुनियाँ में गहरा समंदर।
    हमारे यहाँ इश्क़ से गहरा कुछ भी नहीं।।

    तू किसी और के लिए होगा

    तू किसी और के लिए होगा समंदर-ऐ-इश्क़।
    हम तो रोज़ तेरे साहिल से
    प्यासे गुज़र जाते हैं।।