न जाने किस तरह का इश्क

Sad Shayari Image

न जाने किस तरह का इश्क कर रहे हैं हम,
जिसके हो नहीं सकते उसी के हो रहे हैं हम।

Meri Pehli Mohabbat
निकलूं अगर मयखाने से तो
Rate this: