कितना भी पकड़ो फिसलता

कितना भी पकड़ो फिसलता जरूर है
ये वक्त है साहब बदलता जरूर है

इतने काबिल बनो कि तुम्हें
अपने लिए नहीं तो उनके लिए
Rate this: