कर गुजरने की चाह

boy sad shayari

कुछ कर गुजरने की चाह में कहाँ-कहाँ से गुजरे,
अकेले ही नजर आये हम जहाँ-जहाँ से गुजरे।

मुलाकातों के लम्हें
मोहब्बत की जुबान
Rate this: