• Hindi Shayari

    रात चुप है मगर चाँद

    रात चुप है मगर चाँद खामोश नहीं,
    कैसे कहूँ आज फिर होश नहीं,
    इस तरह डूबा हूँ तेरी मोहब्बत की गहराई में,
    हाथ में जाम है और पीने का होश नहीं..

    वो कह कर गई थी

    वो कह कर गई थी कि लौटकर आऊँगी,
    मैं इंतजार ना करता तो क्या करता,
    वो झूठ भी बोल रही थी बड़े सलीके से,
    मैं एतबार ना करता तो क्या क्या करता।

    घायल करने के लिए लोग

    घायल करने के लिए लोग
    #हथियार चलाते है,
    मेरी तो #Smile ही काफी है…!

    जिनमें अकेले चलने का होंसला होता हैं,

    “जिनमें अकेले चलने का होंसला होता हैं,
    उनके पीछे एक दिन काफिला होता हैं।

    नशा हम किया करते हैं

    नशा हम किया करते हैं
    इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,
    कसूर शराब का नहीं उनका है
    जिसका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।

    मैं ज़िंदगी की दुआ माँगने लगा हूँ बहुत,

    मैं ज़िंदगी की दुआ माँगने लगा हूँ बहुत,
    जो हो सके तो दुआओं को बेअसर कर दे।।
    सिताराए-सहरी डूबने को आया है,
    ज़रा कोई मेरे सूरज को बाख़बर कर दे।।

    कोई रात से कह दो कि थम जाये

    कोई रात से कह दो कि थम जाये
    मैं आज ख्वाब में ज़िन्दगी जीने वाला हूँ


    आसमान की बुलंदियों पर नाम हो आपका

    आसमान की बुलंदियों पर नाम हो आपका,
    चाँद की धरती पर मुकाम हो आपका,
    हम तो रहते है छोटी सी दुनिया में,
    पर खुदा करे सारा जहाँ हो आपका

    ख्वाहिशों के समंदर के सब मोती तेरे नसीब हो

    ख्वाहिशों के समंदर के सब मोती तेरे नसीब हो,
    तेरे चाहने वाले हमसफ़र तेरे हरदम करीब हों,
    कुछ यूँ उतरे तेरे लिए रहमतों का मौसम,
    कि तेरी हर दुआ, हर ख्वाहिश कबूल हो।
    जन्मदिन की बधाई!

    इश्क को सर का दर्द कहने वाले सुन,

    इश्क को सर का दर्द कहने वाले सुन,
    हमने तो ये दर्द अपने सर ले लिया,
    हमारी निगाहों से बचकर वो कहाँ जायेंगे,
    हमने उनके मोहल्ले में ही घर ले लिया।