• Heart Touching Shayari

    “पहली मोहब्बत के लिए

    “पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है.
    वो अपना हो न हो दिल पर
    राज हमेशा उसी का रहता है।”

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही

    चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है,
    याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।

    बड़ी अजीब सी है शहरों

    बड़ी अजीब सी है शहरों की रौशनी,
    उजालों के बावजूद चेहरे पहचानना मुश्किल है।

    कौन कहता है नफ़रतों में

    कौन कहता है नफ़रतों में दर्द है मोहसिन,
    कुछ मोहब्बतें भी बड़ी दर्द नाक होती है।

    ना जाने इतनी मुहब्बत

    “ना जाने इतनी मुहब्बत
    कहां से आई है उसके लिये,
    कि मेरा दिल भी उसकी
    खातिर मुझसे रूठ जाता है”

    कभी उनकी याद आती है

    कभी उनकी याद आती है कभी उनके ख्व़ाब आते हैं,
    मुझे सताने के सलीके… तो उन्हें बेहिसाब आते हैं…

    मिल ही जाएगा कोई ना कोई

    मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला
    अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता

    हर किसी को उतनी जगह

    “हर किसी को उतनी जगह दो दिल में जितनी वो आपको देता है,
    वरना या तो खुद रोओगे या वो आपको रुलायेगा !!”

    इस दिल मे प्यार था कितना

    इस दिल मे प्यार था कितना,
    वो जान लेते तो क्या बात होती,
    हमने माँगा था उन्हें ख़ुदा से,
    वो भी माँग लेते तो क्या बात होती !

    चाहने से प्यार नहीं मिलता

    चाहने से प्यार नहीं मिलता;
    हवा से फूल नहीं खिलता;
    प्यार ना होता है विश्वास का;
    बिना विश्वास सच्चा प्यार नहीं मिलता!