• Heart Touching Shayari

    बड़ी अजीब सी है शहरों

    बड़ी अजीब सी है शहरों की रौशनी,
    उजालों के बावजूद चेहरे पहचानना मुश्किल है।

    कौन कहता है नफ़रतों में

    कौन कहता है नफ़रतों में दर्द है मोहसिन,
    कुछ मोहब्बतें भी बड़ी दर्द नाक होती है।

    ना जाने इतनी मुहब्बत

    “ना जाने इतनी मुहब्बत
    कहां से आई है उसके लिये,
    कि मेरा दिल भी उसकी
    खातिर मुझसे रूठ जाता है”

    कभी उनकी याद आती है

    कभी उनकी याद आती है कभी उनके ख्व़ाब आते हैं,
    मुझे सताने के सलीके… तो उन्हें बेहिसाब आते हैं…

    मिल ही जाएगा कोई ना कोई

    मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला
    अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता

    हर किसी को उतनी जगह

    “हर किसी को उतनी जगह दो दिल में जितनी वो आपको देता है,
    वरना या तो खुद रोओगे या वो आपको रुलायेगा !!”

    इस दिल मे प्यार था कितना

    इस दिल मे प्यार था कितना,
    वो जान लेते तो क्या बात होती,
    हमने माँगा था उन्हें ख़ुदा से,
    वो भी माँग लेते तो क्या बात होती !

    चाहने से प्यार नहीं मिलता

    चाहने से प्यार नहीं मिलता;
    हवा से फूल नहीं खिलता;
    प्यार ना होता है विश्वास का;
    बिना विश्वास सच्चा प्यार नहीं मिलता!

    इश्क को सर का दर्द कहने वाले सुन,

    इश्क को सर का दर्द कहने वाले सुन,
    हमने तो ये दर्द अपने सर ले लिया,
    हमारी निगाहों से बचकर वो कहाँ जायेंगे,
    हमने उनके मोहल्ले में ही घर ले लिया।

    “कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे

    “कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे
    हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे
    वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए
    हम तो बादल है प्यार के किसी और पर बरस जायेंगे.”