• दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे

    दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,
    यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे,
    वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,
    और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!

    कई बार बिना गलती के भी
    न जाने किस तरह का इश्क
    Rate this: