अगर आए तुम्हे हिचकियाँ

अगर आए तुम्हे हिचकियाँ,
तो माफ़ करना मुझे,
क्योंकि इस दिल को आदत है,
तुम्हे याद करने की|

अब जानेमन तू तो नहीं
काश मेरे होंठ तेरे होंठों को छू जाए
Rate this: