2 Line Shayari

आँखें थक गई है आसमान को देखते देखते

sad shayari

आँखें थक गई है आसमान को देखते देखते
पर वो तारा नहीं टूटता ,जिसे देखकर तुम्हें मांग लूँ

हम ने रोती हुई आँखों को

हम ने रोती हुई आँखों को हँसाया है सदा,
इस से बेहतर इबादत तो नहीं होगी हमसे।

तुम्हें लगता होगा न ..

तुम्हें लगता होगा न .. कि कितना बुरा हूं मैं ..
लगने की बात है … मुझे तो खुदा लगे थे तुम ..

ऐ मेरे पाँव के छालो

ऐ मेरे पाँव के छालो… जरा लहू उगलो,
सिरफिरे मुझसे सफ़र के निशान माँगेंगे।

जिन जख्मो से खून नहीं

जिन जख्मो से खून नहीं निकलता समझ लेना
वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है।

जिद में आकर उनसे ताल्लुक

जिद में आकर उनसे ताल्लुक तोड़ लिया हमने,
अब सुकून उनको नहीं और बेकरार हम भी हैं।

आसान नहीं है हमसे

आसान नहीं है हमसे यूँ शायरी में जीत पाना..!!
हम हर एक लफ्ज़ मोहब्बत में हार कर लिखते हैं।

“कभी कभी ख़ुद की

“कभी कभी ख़ुद की ग़लती भी मान लेनी चाहिए…
शायद कोई अपना दूर होने से बच जाए।”

जो “दोगे” वही लौट

जो “दोगे” वही लौट कर आएगा,
चाहे वह “इज्जत” हो या “धोखा”..

दुनिया में केवल “पिता”

दुनिया में केवल “पिता” ही एक ऐसा इंसान है,
जो चाहता है कि मेरे बच्चे
मुझसे भी ज्यादा “कामयाब” हो!